Haunted place of india - भारत की भूतिया जगह एवं आत्माओं के प्रकार


Haunted place of india - भारत की भूतिया जगह एवं आत्माओं के प्रकार



    Views:  1,993    Published:   3 years ago     Category:   Mantra Sangrah

भारत की 5 भूतिया जगह ….



1.) भानगड़ किला, राजस्थान

यहां सूरज ढलते ही इस किले में अगर कोई रुक पाता है, तो वो हैं वहां वास कर रहीं आत्माएं। यकीन मानिए, भानगड़ किला बाहर से दिखने में जितना सुंदर है, उसके अंदर काले जादू का आगोश है। इस किले की भूतिया कहानी के पीछे है वो शाप, जो तांत्रिक सिंघीया ने भानगड़ की राजकुमारी रत्नावती को दिया था। रत्नावती की वजह से ही इस तांत्रिक की मृत्यु हुई थी। दरअसल, राजकुमारी रत्नावती से सिंघीया नाम का व्यक्ति बहुत प्यार करता था। एक दिन राजकुमारी रत्‍नावती एक इत्र की दुकान पर पहुंची और वो इत्रों को हाथों में लेकर उसकी खुशबू ले रही थी।सिंघीया उसी राज्‍य में रहता था और वो काले जादू का महारथी था। इसलिए उसने उस दुकान के पास आकर एक इत्र के बोतल जिसे रानी पसंद कर रही थी उसने उस बोतल पर काला जादू कर दिया जो राजकुमारी के वशीकरण के लिए किया था। लेकिन राजकुमारी रत्‍नावती ने उस इत्र के बोतल को उठाया, लेकिन उसे वही पास के एक पत्‍थर पर पटक दिया। पत्‍थर पर पटकते ही वो बोतल टूट गया और सारा इत्र उस पत्‍थर पर बिखर गया। इसके बाद से ही वो पत्‍थर फिसलते हुए उस तांत्रिक सिंघीया के पीछे चल पड़ा और तांत्रिक की मौके पर ही मौत हो गई। मरने से पहले तांत्रिक ने शाप दिया कि इस किले में रहने वालें सभी लोग जल्‍द ही मर जायेंगे और वो दोबारा जन्‍म नहीं ले सकेंगे और ताउम्र उनकी आत्‍माएं इस किले में भटकती रहेंगी। आज उस किले में मौत की चींखें गूंजती हैं। भारत की सरकार ने भी इस किले में शाम के बाद एंट्री बद की हुई है।



2.) दुमास बीच, गुजरात

इस बीच पर हिंदुओं के शवों का दाह-संस्कार किया जाता है। लेकिन शाम के बाद यहां कोई नहीं रुक पाता। क्योंकि लोगों को अकसर यहां अजीब-गरीब आवाज़ें सुनाई देती हैं। यहां कई बार गतिविधियां भी महसूस होती हैं, मानो जैसे वहां कोई हो। जबकि आस-पास कोई नहीं होता। ऐसा माना जाता है कि यहां हर ओर मरे हुए लोगों की रूहें हर पल मौजूद रहती हैं।



3.) कुर्सियांग, पश्चिम बंगाल

कुर्सियांग पश्चिम बंगाल में एक हिल स्टेशन है, जहां पर्यटकों का आना-जाना लगा ही रहता है। लेकिन कहते हैं कि यह हिल स्टेशन जितना ख़ूबसूरत है, उससे कई ज़्यादा यहां डरावनी हरकते होती हैं। यहां के लोगों को भयानक आवाज़े सुनाई देती हैं, उनके कमरों में हलचल होती रहती है और ख़ौफ के चलते, कईओं ने आत्महत्या भी कर ली। लोगों को लगता है कि कोई उनके पीछे चल रहा है। किसी ने तो एक कटे हुए सिर वाले लड़को को भी देखा, जो बाद में पेड़ों के पीछे कहीं छिप गया।



4.) राजकिरन होटल, लोनावाला, महाराष्ट्र

पता : बी वार्ड, सी.एस. नंबर- 162, लोनावाला, मुंबई। मुंबई के इस गेस्ट हाउस में जो भी आता है, वो कोई न कोई किस्सा लेकर इस गेस्ट हाउस से बाहर ज़रूर निकलता है। किसी को लगता है कि रात को सोते समय कोई उसके कानों में कुछ-कुछ बोल रहा है, किसी की बेडशीट खुद ही सरकने लगती है, तो किसी को अजीब-गरीब आहट सुनाई देती है। ग्राउंड फ्लोर पर बने इस कमरे को अब वहां का मालिक भी रेंट पर नहीं देता।



5.) दिल्ली कैंट, दिल्ली, दिल्ली के सेक्टर- 9, द्वारका

कहते हैं कि सेक्टर- 9 के मेट्रो स्टेशन के पास पीपल का एक पेड़ है जहां रूहों का वास है। और इसलिए लोगों ने वहां भगवान की मूर्तियां भी लगाई हुई हैं। इसके अलावा यह भी सुनने को मिला है कि इस जगह पर उन्‍होंने एक सफेद रंग के लिबास में औरत देखी है जो लोगों से लिफ्ट मांगती रहती है और जब वे उसे लिफ्ट देते हैं तो वह अपने आप ही गायब हो जाती है। लेकिन जो लिफ्ट देने से मना करता है, उसका क्या हाल होता है ?, यह किसी को नहीं पता।



 



आत्माओँ के विभिन्न प्रकार भारत देश मेँ-

1.भूत :- सामान्य भूत जिसके बारे में आप अक्सर सुनते है

2.प्रेत :- परिवार के सताए हुए बिना क्रियाकर्म के मरे आदमी

3.हाडल :- बिना नुक्सान पहुचाये प्रेतबाधित करने वाली आत्माए

4.चेतकिन :- चुडेले जो लोगो को प्रेतबाधित कर दुर्घटनाए करवाती है

5.मुमिई :- मुंबई के कुछ घरो में प्रचलित प्रेत

6.विरिकस:- घने लाल कोहरे में छिपी और अजीबोगरीब आवाजे निकलने वाला

7.मोहिनी या परेतिन : -प्यार में धोका खाने वाली आत्माए

8.शाकिनी:- शादी के कुछ दिनों बाद दुर्घटना से मरने वाली औरत की आत्मा | कम खतरनाक

9.डाकिनी :- मोहिनी और शाकिनी का मिला जुला रूप | किन्ही कारणों से हुई मौत से बनी आत्मा

10.कुट्टी चेतन :- बच्चे की आत्मा जिसपर तांत्रिको का नियंत्रण होता है

11.ब्रह्मोदोइत्यास :- बंगाल में प्रचलित | शापित ब्राह्मणों की आत्माए

12.सकोंधोकतास :- बंगाल में प्रचलित | रेल दुर्घटना में मरे लोगो की सर कटी आत्मा

13.निशि :- बंगाल में प्रचलित | अँधेरे में रास्ता दिखाने वाली आत्मा

14.कोल्ली देवा :- कर्नाटक में प्रचलित | जंगलो में हाथो में टोर्च लिए घुमती आत्माए

15.कल्लुर्टी ,:-कर्नाटक में प्रचलित | आधुनिक रीती रिवाजो से मरे लोगो की आत्मा

16.किचचिन:- बिहार में प्रचलित | हवस की भूखी आत्मा

17.पनडुब्बा:- बिहार में प्रचलित | नदी में डूबकर मरे लोगो की आत्मा

18.चुड़ैल:- उत्तरी भारत में प्रचलित | राहगीरों को मारकर बरगद के पेड़ पर लटकाने वाली आत्मा

19.बुरा डंगोरिया :- आसाम में प्रचलित | सफ़ेद कपडे और पगड़ी पहने घोड़े पसर सवार आत्मा

20.बाक :- आसाम में प्रचलित | झीलों के पास घुमती आत्माए

21.खबीस :- पाकिस्तान ,गुल्फ देशो और यूरोप में प्रचलित |जिन्न परिवार से ताल्लुक रखने वाली आत्मा

22.घोडा पाक :- आसाम में प्रचलित | घोड़े के खुर जैसे पैर बाकी मनुष्य

23.बीरा :- आसाम में प्रचलित परिवार को खो देने वाली आत्माए

24.जोखिनी :-आसाम में प्रचलित पुरुषो को मारने वाली आत्मा

25.पुवाली भूत :-आसाम में प्रचलित छोटे घर के सामनो को चुराने वाली आत्माए

26.रक्सा :- छतीसगढ़ मे प्रचलित कुँवारे मरने वालो की खतरनाक आत्मा ,

27. मसान:- छतीसगढ़ की प्रचलित पाँच छै सौ साल पुरानी प्रेत आत्मा नरबलि लेते हैँ , जिस घर मेँ निवास करेँ पुरे परिवार को धीरे धीरे मार डालते हैँ ,

28.चटिया मटिया :- छतीसगढ़ मेँ प्रचलित बौने भुत जो बचपन मेँ खत्म हो जाते हैँ वो बनते हैँ बच्चो को नुकसान नहीँ पहुँचाते । आँखे बल्ब की तरह हाथ पैर उल्टे काले रंग के ,, मक्खी के स्पीड मेँ भागने वाले चोरी करने वाली आत्मा ,

29. बैताल:- पीपल पेड़ मेँ निवास करते हैँ एकदम सफेद रंग वाले ,, खतरनाक आत्मा

30. चकवा या भुलनभेर :- रास्ता भटकाने वाली आत्मा महाराष्ट्र ,एमपी आदि मेँ पाया जाता हैँ ,,

31. उदु:- तलाब या नहर मेँ पाये जाने वाली आत्मा जो आदमियोँ को पुरा खा जाऐँ , छतीसगढ़ मेँ प्रचलित ,,

32. गल्लारा :- अकाल मरे लोगो की आत्मा धमाचौकडी मचाने वाली आत्मा छतीसगढ़ मेँ प्रचलित ,

34. भंवेरी :- नदी मेँ पायी जाने वाली आत्मा जो पानी मेँ डुब कर मरते हैँ पानी मेँ भंवर उठाकर नाव या आदमी को डूबा देने वाली आत्मा ,, छतीसगढ़ मेँ प्रचलित

35. गरूवा परेत:- बिमारी या ट्रेन से कटकर मरने वाले गांयो और बैलो की आत्मा जो कुछ समय के लिए सिर कटे रूप मेँ घुमते दिखतेँ हैँ नुकसान नही पहुचातेँ ! छतीसगढ मेँ प्रचलित ,

36. हंडा :- धरती मेँ गडे खजानोँ मेँ जब जीव पड़ जाता हैँ याने प्रेत का कब्जा तो उसे हंडा परेत कहते हैँ , ये जिनके घर मेँ रहते हैँ वे हमेशा अमीर रहते हैँ , हंडा का अर्थ हैँ कुंभ , जिसके अंदर हीरे सोने आदि भरे रहते हैँ ,, जो लालच वश हंडा को चुराने का प्रयास करेँ उसे ये खा जाते हैँ , ये चलते भी हैँ ! छतीसगढ़ मेँ प्रचलित

37. सरकट्टा:-छत्तीसगढ़ में प्रचलित एक प्रेत जिसका सिर कटा होता है,बहुत ही खतरनाक

38.मरीद- ये बडे खतरनाक व ताकतवर माने गए है। अलादीन का चिराग कहानी में देखा जा सकता है। ये गुलाम तो हो सकतेँ हैँ पर धोखेबाज होते हैँ।

39.अफरीत-इस प्रजाती का अपना लोक होता है,मित्र सहज बन जाते है। अच्छे व बुरे दोनो स्वभाव के होते हैं इन पर विश्वास करना घातक हो सकता है।

40.सिला-ये स्त्री प्रजाती है। सुन्दर व आकर्षक होती है। इस लोक मे आती जाती है पर मानव समाज से दूरी रखती है।

41.घूल-मानव मांस खाने वाली खौफनाक प्रजाती है। कब्रस्तान के पास पाऐ जाते है। व्यवहार क्रूर तथा शैतान की तरह होता है।




Tagstypes of spirits haunted place of india

View More
Comments