purusharth ho to bhagwan shri ram jaisa


purusharth ho to bhagwan shri ram jaisa



    Views:  1,468    Published:   6 years ago     Category:   Religious

पुरूषार्थ हो तो भगवान श्री राम जैसा
रावण सीता को समझा समझा कर हार गया था ।
पर सीता ने रावण की तरफ एक बार देखा तक नहीं, तब मंदोदरी ने उपाय बताया कि तुम राम बन के सीता के पास जाओ वो तुम्हे जरूर देखेगी ।

रावण ने कहा – “मैं ऐसा कई बार कर चुका हूं ।”

मंदोदरी – “तब क्या सीता ने आपकी ओर देखा ।”

रावण – “मैं खुद सीता को नहीं देख सका, क्योंकि मैं जब-जब राम बनता हूं मुझे परायी नारी अपनी माता और अपनी पुत्री सी दिखती है ।”

ज्ञान की बात – अपने अंदर श्री राम को ढूंढे और उनके चरित्र पर चलिए । आपसे भूलकर भी भूल नहीं होगी ।

जय श्री राम।



View More
Comments